🌿🌿चबूतरे पर बोधिचित्त!🌿🌿
 

खोए और कुचले हुए 'भारतीय चित्त' की पुनर्रचना किसी बोधिवृक्ष के नीचे ज्ञान साधना और अवचेतन संवाद से ही संभव है।
-डॉ. रामाज्ञा शशिधर